सचिव का प्रतिवेदन

इस संस्था की स्थापना में स्वर्गीय सर्वश्री जी एस सरदार एवं एम पी एस राठौर जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है! सन 1962 में इसे विधिवत सोसाइटी रजिस्ट्रेशन एक्ट में पंजीकृत किया गया. वर्ष 1966 में इस संस्था ने श्री एम पी एस राठौरजी भूतपूर्व महासचिव के सराहनीय मार्ग दर्शन में शैक्षिक एवं वव्यसायिक प्रशिक्षण की गतिविधियों को अपनाया. श्री राठौर जी के निर्देशन में ही इस संस्था ने दृष्टिहीनों के लिए इस सुन्दर एवं विशाल भवन का निर्माण किया, तब से यह संस्था सुचारू रूप से कार्य करती हुई दृष्टिहीनों के विकास के लिए नवीन अवसर खोजने की दिशा में निरंतर प्रगतिशील है ! वर्ष 1986 से नर्सरी से आठवी कक्षा तक सी बी एस ई के पाठ्यक्रमानुसार आवासीय स्कूल के रूप में शिक्षा प्रदान की जा रही है ! इसके साथ-साथ गायन एवं वादन में पारंगत होने का अवसर भी प्रदान किया जाता है ! उन्हें कुर्सी बुनना, मोमबत्ती बनाना, संगीत, ब्रेल की आधारभूत शिक्षा प्रदान की जा रही है ! संस्था की एक नई उपलब्धि कंप्यूटर प्रशिक्षण का कार्यक्रम भी है ! इसके लिए एक कंप्यूटर प्रशिक्षित ब्लाइंड टीचर भी है जो उन्हें इसकी ट्रेनिंग देते है !
विधालय को मान्यता दिलवाने का प्रयास जारी है ! डिपार्टमेंट की मांग के अनुसार फायर सेफ्टी सर्टिफिकेट एंड सर्टिफ़िकेट फ्रॉम दिल्ली जल बोर्ड से लेने के लिए ओन लाइन पत्र व्यवहार किया गया है.
हम उन समस्त दानदाताओ के आभारी है जिन्होंने धन एवं सामग्री के द्वारा अपना पूरा सहयोग दिया है जबकि सरकार से वर्ष 2008 के बाद कुछ भी अनुदान राशि प्राप्त नहीं हुई है ! हम उन सब लोगो के भी आभारी है जिन्होंने संस्था के बच्चो को स्पांसर किया है और प्रति माह अपना पूरा अंशदान नियमित रूप में दे रहे है ! वर्ष 2014-2015 में लगभग 1200 सदस्यों ने अपना अंशदान प्रति माह दिया है जिससे हम अपने सभी खर्चो को बिना किसी रूकावट के पूरा करने में समर्थ रहे है ! हम उन सभी के प्रति भी अपना आभार प्रकट करते है !
स्वर्गीय श्री राठौर जी के मार्गदर्शन में जो प्रोजेक्ट राजस्थान में लगाया गया था उसकी एन.ओ.सी. प्राप्त हो गयी है, जमीन कन्वर्जन का कार्य चल रहा है तथा जिसके प्राप्त होने पर शेष कार्यवाही की जाएगी ! राजस्थान में इस संस्था का कार्य हमारे कार्यकारी सदस्य श्री बजरंग सिंह राघव जी की देख रेख में सुचारू रूप से चल रहा है जोकि राजस्थान के प्रतिकूल मौसम में भी इस संस्था के लिए अभूतपूर्व योगदान दे रहें हैं, जिसके लिए हम उनके भी आभारी है !
हम श्री ओ पी बब्बर जी के ह्रदय से आभारी है जिन्होंने अपना बहुमूल्य समय देकर इस संस्था की प्रगति में अपना पूर्ण योगदान दिया है ! श्री एम पी एस राठौर जी के आकस्मिक निधन के बाद श्री बब्बर जी और भी सक्रिय रूप में संस्था को अपना अभिष्ट सहयोग पूर्ण निष्ठां के साथ निरंतर दे रहे है !
हम भगवान से बब्बर जी की दीर्घायु की कामना करते है और आशा करते है कि उनका प्रेरक आशीर्वाद और प्यार हमें आगे भी यथावत मिलता रहेगा !
संस्था में विधार्थियों को रिदमिक और आर्टिस्टिक योगा के साथ योगा का भी प्रशिक्षिण दिया जा रहा है. हमारे विधार्थियों ने एस डी पब्लिक स्कूल में प्रदर्शन द्वारा आयोज़कों एवं समस्त दर्शकों की यह सराहना प्राप्त की कि किस प्रकार दृष्टिहीन बच्चे इतना बढ़िया योग का प्रदर्शन कर रहे है. इसके लिए इनके योग प्रशिक्षक श्री हेमंत शर्मा के हम ह्रदय से आभारी है जिन्होने इन बच्चो को निशुल्क एवं निष्ठापूर्वक प्रशिक्षण देकर सराहनीय कार्य किया है !
हम डॉ. विनोद खेत्रपाल जी के अत्यंत आभारी है जो संस्था के बच्चो के स्वास्थय की नियमित जाँच एवं बीमारियो का निशुल्क उपचार नियमित रूप में करते आ रहे है !.
हम एल & टी कंपनी और पंजाब नेशनल बैंक के भी आभारी है जिन्होंने मोमबत्ती बनाने की मशीन बच्चो के लिए दान में दी जिससे की बच्चो को मोमबत्ती बनाने के लिए आसानी हुई और हमारे उत्पादन में भी वांछित वृद्धि हुई! इन्होने भविष्य में और भी योगदान का आश्वासन दिया है !
हम सर्वश्री बख्शीजी, चौधरीजी, भालचंदजी एवं अमृतलालजी के भी आभारी है जिन्होंने इस संस्था के बच्चो के लिए अपना निशुल्क बहुमूल्य समय देकर इन्हे प्रशिक्षित करने में अपना विशेष योगदान दिया है !
इस संस्थान के सभी छात्र छात्राएं, कर्मचारी एवं शिक्षक वर्ग व कार्यकारणी सदस्य इस संस्था से जुड़े सहयोगियों व शुभचिंतको के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करते है !

देवेन्द्र सिंह राठौर
महासचिव
<--